Complete Surrender to Lord - प्रभु को सम्पूर्ण समर्पण

Complete Surrender to Lord - प्रभु को सम्पूर्ण समर्पण

Whenever you are infront of lord, recite this RamCharitManas chaupai and experience his bliss and love

सीता राम चरन रति मोरें।
अनुदिन बढ़उ अनुग्रह तोरें।।

जेहि बिधि नाथ होइ हित मोरा।
करहु सो बेगि दास मैं तोरा॥

भावार्थ

श्री सीता-रामजी के चरणों में मेरा प्रेम आपकी कृपा से दिन-दिन बढ़ता ही रहे |
हे नाथ! जिस तरह मेरा हित हो, आप वही शीघ्र कीजिए। मैं आपका दास हूँ।